आसान भाषा में कहें तो क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) एक डिजिटल कैश (Digital Money) प्रणाली है क्रिप्टोकरेंसी का मुख्य कार्य होता हैं एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में पैसे ट्रांसफर करना, और यह कार्य किया जाता हैं, ब्लॉकचैन के माध्यम से.

ब्लॉकचैन डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर टेक्नोलॉजी ( DLT ) का उपयोग करती हैं ताकि सिस्टम से तीसरे पक्ष को हटाया जा सकें. इसका मतलब यह है कि जिस तरह से जब हम किसी के साथ लेनदेन करते हैं तो बीच में कुछ न कुछ तृतीय पक्ष होती हैं जो इस लेनदेन को पूरा करने में सहायक होती हैं लेकिन इसमें ऐसा नहीं होता हैं. क्रिप्टोकरेंसी के लेनदेन में जिस टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता हैं, यह टेक्नोलॉजी को ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी कहा जाता है. दरअसल ब्लॉकचैन हर लेनदेन का एक डेटाबेस हैं इसमें जो लेनदेन किये जाते हैं उसकी जानकारी ब्लॉक के रूप में होती हैं और फिर ये ब्लॉक्स एक – एक करके डेटाबेस के साथ जुड़कर एक लंबी श्रंखला बना देते हैं. यही ब्लॉकचैन होती हैं.

क्रिप्टोकरेंसी के पास एक सेंट्रल कंप्यूटर या सर्वर नहीं है, उन्हें आमतौर पर हजारों कंप्यूटर्स के नेटवर्क पर वितरित किया जाता है. एक बिना सेंट्रल सर्वर नेटवर्क को डीसेंट्रलाइज्ड नेटवर्क्स कहा जाता है.

क्रिप्टो करेंसी कौन कौन से हैं?

क्रिप्टो करेंसी की लिस्ट में सबसे पहला नंबर पर बिटकॉइन ( Bitcoin ) का आता है नीचे दिए गए कुछ नाम है जो बिटकॉइन के सफलता के बाद चर्चा में आए है

इथीरियम ( Ethereum ) , डॉगकॉइन ( Dogecoin ), रिप्पल (Ripple)

Altcoins
टोकन, क्रिप्टोकरेंसी और अन्य प्रकार की डिजिटल संपत्ति जो बिटकॉइन नहीं हैं, सामूहिक रूप से वैकल्पिक क्रिप्टोकरेंसी के रूप में जानी जाती हैं

Mining:

क्रिप्टोक्यूरेंसी नेटवर्क में, खनन ( Mining ) लेनदेन का सत्यापन है। इस प्रयास के लिए, सफल खनिक पुरस्कार के रूप में नई क्रिप्टोकरेंसी प्राप्त करते हैं।

Wallets:

एक क्रिप्टोक्यूरेंसी वॉलेट सार्वजनिक और निजी “कुंजी” ( key, पता) या बीज को संग्रहीत करता है जिसका उपयोग क्रिप्टोक्यूरेंसी प्राप्त करने या खर्च करने के लिए किया जा सकता है। निजी कुंजी के साथ, सार्वजनिक खाता बही में लिखना संभव है, प्रभावी रूप से संबंधित क्रिप्टोक्यूरेंसी खर्च करना। सार्वजनिक कुंजी के साथ, दूसरों के लिए वॉलेट में मुद्रा भेजना संभव है।

अगर आप भारत में रहकर बिटकॉइन खरीदना चाहते है तो नीचे दिए गए नाम आपको इसमें मदद करेंगे :-

भारत में बिटकॉइन खरीदने के लिए 7 सर्वश्रेष्ठ ऐप:-

  • वज़ीरक्स
  • बिटबन्स
  • कॉइनस्विच कुबेर
  • अनकॉइन
  • कोलोडेक्स
  • CoinDCX
  • Zebpay
  • BuyUcoin थोक क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग के लिए पहला भारतीय प्लेटफॉर्म है

बिटकॉइन के आविष्कारक कौन है इसके बारे में कोई नहीं जानता है, बिटकॉइन का निर्माता अभी भी अज्ञात बना हुआ है। बिटकॉइन का उपयोग करके खरीदा गया पहला सामान पिज्जा था|

Cryptocurrency दो शब्दों से मिलकर बना शब्द है. Crypto जोकि लैटिन भाषा का शब्द है जो cryptography से बना है और जिसका मतलब होता है, छुपा हुआ/हुई. जबकि Currency भी लैटिन के currentia से आया है, जो कि रुपये-पैसे के लिए इस्तेमाल होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *