भाषा विकास में सुनने और बोलने की भूमिका

भाषा विकास में सुनना एवं बोलना की भूमिका (Role Of Listening And Speaking In Language Development) बालक के भाषा विकास में सुनने एवं बोलने की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सुनना और बोलना पढ़ने और लिखने की क्षमताओं के लिए आवश्यक भूमिका तैयार कर देते हैं। वास्तव में ये चार क्षमतायें भाषा के परस्पर सहकारी अंग हैं।  भाषा विकास में सुनने की भूमिका का महत्व निम्नवत् है शुद्ध उच्चारण करने में – सुनना एक स्वाभाविक […]

Read More

भाषा शिक्षण के सिद्धांत

भाषा शिक्षण से संबंधित कुछ सिद्धांत निम्नलिखित हैं 1) अभिप्रेरणा एवं रुचि का सिद्धांत( Theory of motivation and interest ) सिद्धांत के अनुसार भाषा तथा उसकी पाठ्य सामग्री के प्रति रुचि उत्पन्न करना आवश्यक है शिक्षण प्रणालियों का चुनाव बच्चों की रुचि एवं आवश्यकताओं के अनुरूप किया जाना चाहिए 2) क्रियाशीलता का सिद्धांत ( Theory […]

Read More

भाषा अधिगम और भाषा अर्जन

भाषा भाषा वह साधन है जिसके द्वारा हम अपने विचारों को व्यक्त करते है और इसके लिये हम वाचिक ध्वनियों का उपयोग करते हैं। भाषा मुख से उच्चारित होनेवाले शब्दों और वाक्यों आदि का वह समूह है जिनके द्वारा मन की बात बतलाई जाती है। सामान्यतः भाषा को वैचारिक आदान-प्रदान का माध्यम कहा जा सकता […]

Read More